शोहरत की बुलंदियों से राजनीती तक का सफर, ऐसी थी विनोद खन्ना की लाइफ (vinod khanna age)

शोहरत की बुलंदियों से राजनीती तक का सफर, ऐसी थी विनोद खन्ना की लाइफ  (vinod khanna age)

Biography of vinod khanna (विनोद खन्ना की जीवनी) (vinod khanna age)

Dard ki dawa na ho … toh dard ko hi dawa samajh lena chahiye

इस छोटे से दिल को छूने वाले संवाद के साथ आज मैं आप सभी के साथ उनके बारे मे बात करने जा रही हूँ जो चाहे अब हमारे बीच तो नहीं रहे है लेकिन अपने काम के जरिये अपने प्यार के जरिये और बेशुमार टैलेंट के जरिये हमेशा हमारे बीच ही रहेंगे

बात कर रही हूँ हिंदी सिनेमा के एक बेहतरीन भारतीय अभिनेता और राजनेता विनोद खन्ना जी की| तो आज उनकी 74 जयंती पे मैं आप सभी के साथ उनके व्यक्तिगत जीवन और उनके फ़िल्मी जीवन के बारे मे कुछ चीज़े साझा करुँगी

विनोद खन्ना का जन्म

विनोद खन्ना का जन्म 6 अक्टूबर 1946 को पेशावर में हुआ था। कारोबारी परिवार में जन्में विनोद खन्ना के पिता कपड़ों और केमिकल बनाने का काम करते थे। उनका परिवार अगले साल 1947 में हुए विभाजन के बाद पेशावर से मुंबई आ गया था। उनके माता-पिता का नाम कमला और किशनचंद खन्ना था।

vinod khanna age
vinod khanna age

पढ़ाई

विनोद खन्ना ने अपनी स्कूलिंग मुंबई के सेंट मैरी स्कूल से की। 1957 में उनका परिवार दिल्ली आ गया। विनोद खन्ना की बाकी की स्कूलिंग दिल्ली पब्लिक स्कूल में हुई।
विनोद साइंस के स्टूडेंट थे। वहीं, उनके पिता चाहते थे कि वो कॉमर्स की पढ़ाई कर बिजनेस में हाथ बटाएं। इसलिए उनके पिता ने उनका दाखिला एक कॉमर्स कॉलेज में भी करा दिया, लेकिन विनोद का पढ़ाई में मन नहीं लगा।
इसलिए कॉलेज की पढ़ाई के दौरान ही विनोद ने थिएटर में काम करना शुरु कर दिया था और जी जान से वहाँ सीखना शुरू कर दिया |

करियर

कहते है ना जब तुम किसी चीज़ को मेहनत और दिल से करो तो भगवान् भी उस मेहनत को रंग लाने में तुम्हारी मदद करते है, अब हुआ ऐसा एक पार्टी के दौरान विनोद को निर्माता-निर्देशक सुनील दत्त से मिलने का मौका मिला।
सुनील दत्त उन दिनों अपनी फिल्म ..मन का मीत ..के लिये नये चेहरों की तलाश कर रहे थे। उन्होंने फिल्म में विनोद खन्ना से बतौर सपोर्टिंग एक्टर काम करने की पेशकश की जिसे विनोद खन्ना ने हंशी खुशी से मंजूर कर लिया और फ़िल्मी दुनिया में अपना कदम रखा

vinod khanna age

कई फिल्मों में उल्लेखनीय सहायक और खलनायक के किरदार निभाने के बाद आखिरकार 1971 में उनकी पहली सोलो हीरो वाली फिल्म हम तुम और वो आई।

उतार चढ़ाव भरी रही जिंदगी

हर किसी की ज़िन्दगी की तरह विनोद खन्ना की जिंदगी भी बड़ी उतार चढ़ाव भरी रही। उनके जीवन में एक ऐसा भी दौर देखने को मिला जब उन्होनें अपने फिल्मी करियर को छोड़कर उस वक्त संन्यास धारण कर लिया, जब वह बॉलीवुड में बुलंदियों पर थे उन्होंने अपना सब कुछ ताक पर रखकर घर बार छोड़कर संन्यास लेने का मन बना लिया।
उनकी ज़िन्दगी में सिर्फ इतने ही उतार चराव नहीं था अभी कुछ और भी चीज़ो से उन्हें शायद गुजरना था
उनके संन्यास लेने की वजह से उनकी पहली पत्नी गीतांजली ने उन्हें तलाक दे दिया। गीतांजली विनोद को बचपन से जानती थी , और बाद में कॉलेज में भी उनकी गर्लफ्रेंड रही। दोनों ने अपने बचपन के साथ को हमेशा निभाने के लिए साल 1971 में शादी की | लेकिन शायद किस्मत को दोनों का साथ मंजूर ना था इसलिए दोनों अलग हो गए |

vinod khanna age
vinod khanna age

संन्यास से लौटने के बाद विनोद ने एक और चौकाने वाला ऐलान किया की वो अपने से 16 साल छोटी लड़की कविता से शादी करने जा रहे है इस ऐलान के साथ उन्होंने अपने फैंस को ये भी बताया की कविता से एक साल की मुलाकात के बाद उन्होंने ये फैसला लिया
इस ऐलान के बाद दोनों 1990 में शादी के बंधन में बंधे और साथ निभाने के वचन लिए

उन्होंने अपने संन्यास के बाद अपनी दूसरी फिल्मी पारी भी सफलतापूर्वक खेली|

फिल्म फेयर पुरस्कार

विनोद खन्ना जी को शुरुआती सफलता गुलजार की फिल्म मेरे अपने से मिली।

इस फिल्म में अभिनेत्री मीना कुमारी ने भी अहम भूमिका निभाई थी। विनोद खन्ना के अच्छे अभिनय की वजह से उन्हें साल 1973 में विनोद खन्ना को एक बार फिर से निर्देशक गुलजार की फिल्म अचानक में काम करने का मौका मिला

जो उनके करियर की एक और सुपरहिट फिल्म साबित हुयी। इसके बाद भी उन्होंने कही सुपरडुपर फिल्मे दी जैसे 1974 में प्रदर्शित फिल्म ..इम्तिहान, 1977 में प्रदर्शित फिल्म ..अमर अकबर ऐंथोनी, कुर्बानी, इंसाफ | इतने हिट्स देने के बाद विनोद खन्ना जी को दमदार एक्टिंग और सर्वश्रेष्ठ एक्टर के लिए फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विनोद खन्ना जी का सफर बस इतना नहीं था |

विनोद खन्ना की जीवनी vinod khanna age
vinod khanna age

विनोद खन्ना जी का राजनीतिक सफर

विनोद खन्ना ने अपने चार दशक लंबे करियर में लगभग 150 फिल्मों में अभिनय किया।
फिल्मो में अच्छे अभिनय निभाने के बाद उन्होंने समाज सेवा के लिए वर्ष 1997 राजनीति में प्रवेश किया और भारतीय जनता पार्टी के सहयोग से वर्ष 1998 में गुरदासपुर से चुनाव लड़कर लोकसभा सदस्य बने।

बाद में उन्हें केन्द्रीय मंत्री के रूप में भी काम किया। इसके बाद विनोद खन्ना ने 27 अप्रैल 2017 को इस दुनिया को अलविदा कह गए।

vinod khanna age

PLEASE GIVE YOUR POINT OF VIEW ABOUT THIS ARTICLE BY USING COMMENT SECTION

THANK YOU SO MUCH FOR GIVING YOUR PRECIOUS TIME TO MY ARTICLE

And For more updates about Stories, Poem or song: http://truelovemyth.com

 

Something Wrong Please Contact to Davsy Admin

Mehak Bhatia

4 thoughts on “शोहरत की बुलंदियों से राजनीती तक का सफर, ऐसी थी विनोद खन्ना की लाइफ (vinod khanna age)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *